Articles of Saurabh Pandey "Sarthak"

My Valued Viewers /Readers !! You Are Most Welcome to My Blog........Let Abreast Yourself With Contemporary Nationalist Issues......Thanks !


© Saurabh Pandey "Sarthak "



Friday, April 12, 2019

JNU to Begusarai : Sinking CPM with shrinking FoE ?

Swara was reduced to vagina while expressing her dismay with padmawat producer .Kanhiya was yelling in the campus 'Lad ke lenge Azadi' and after his bail have become voice of sedition and treachery in the country .Similar foes who hate to be called nationalist and name it saffaronised term are collectively reduced to Begusarai ;politically the leningrad of bihar and possibly one of the lone left place in the country's hindi belt for their version of FoE desire.
General election 2019 would be last nail in the coffin for sedition community and this fear has united all such cornered forces together in Begusarai .
Recently in his speech at a Muslim gathering during election campaign, he was explaining about the Islamic version of peace , Reham of Allaah and why Muslims of Begusarai are not from Arab . he explains ,it was the peace and message of Allah to encourage their forefathers to adopt Islam and so they should vote for the new age peace messenger Kanhiya . So according to him Islamic invaders intruded our country to spread peace and it was the Hindus who adopted Islam because they were distressed and oppressed with Hinduism .
There are number of crooked and hate stories spun around Hinduism ,caste ,religion ,history, culture and  our religious base by communists with ever support from congress .It was all done and well structured since India resumed its formal education and political system to build a separate section of ideology and political narrative in the country so that forces from cross border could influence the policy and governance of our country and the union structure would be at the will and grip of such forces .
It is the result of almost 70 years concerted effort by the ruling political outfits of their times , if you leave the era of Islamic and British atrocities , that today from academics to bureaucracy  ,from panchayat to parliament ,from mart to art , from court to media , everywhere the anti India narrative is active in the name of constitutionally mentioned freedom of speech (FoE) and right to speak .
Frustrated in their effort of carrying this anti India narrative and politically marginalized in every corner of the country ,they are uniting not to serve but rule this nation at any cost. 
Last five years have been a financial devastation for such forces all the round and are deprived of all sorts of government luxuries otherwise available in previous governments.
Instead of critically analyzing  the policies and schemes of NDA government and explaining flaws to the implementation , they have resorted to false and fabrication as they firmly believe that when all the options are closed and no reason left to counter a regime then only manufactured agenda can save and serve to survive .
Afraid of facing the educated young youth and new age voters ,they are moving to distant and largely ignorant sections of the country to get a political survival .Where easily they can attract voters with misinformation and if elected to, can claim to the country that they are relevant and their narrative is well accepted in the society .
They talk about highly tough terms like Intolerance in Delhi and claim candidature at distant villages because in metro city they get national news flash for their manufactured stories and where largely voters are of working class and disillusioned with politics whereas in villages poor people receive them as a known TV face of what they hardly can understand .
The recent trend in Indian politics of spreading hate ,discrediting the constitutional and institutional  forums and positions for getting political power based on false and fake discussions will be a dangerous start if voted to them as per their wish .
Opposition of government based on policies is must not only for healthy democracy but to control unscrupulous practices also .But EC 2019 would be a decisive one to mark a clear distinction between forces who wish to protect this nation and those who are vying for power at any cost and are ready to compromise with any one to defeat a sitting Prime Minister . its an election to not to get majority but to defeat a man whose actions have almost eliminated political existence of opposition for their previous frauds , organised corruption and ailing policies .

Lets not stop the global glory and prestige we have earned in last 5 years with all the internal infrastructural developments . next 5 years are crucial to build a dream building on this infrastructural background for this great nation .
They are also aware of  about this fact that , it would be hard to survive in this country with this ideology of sedition and infact no country allows such elements who impeach where they breath .

Let these Azadi gang not get any ground in this country to flourish and propagate anti India agenda and represent us in parliament .
Let FoE be as sacred and common rights as the spirit of constitution provides you and not be vitiated by elements working for forces active in breaking India movement since years .







  

Sunday, March 31, 2019

International Auditors Summit :IAS 2019 by India Think Council

100 Countries, 500 Global Audit Practitioners, 50 Paper Presentation, 15 Technical sessions and 30 Speakers
Where the whole world is driven by data and facts and no informed government can perform well until the governance institutions are executing responsibilities based on the factual information; the very authenticity of data and information is under question these days around the world.
In an environment of turbulence, where political establishments and people in power affect business houses and commerce with equally impact on financial institutions and corporate houses; role of independent auditor and vigilance bodies becomes much tougher than earlier.
Government regulations and corporate laws are there with strict provisions to control and compliance. There are various guidelines and effective measures to enforce adherence of laws and a reporting culture across the system for proper overview of existing mechanism and progress.
Despite all this mechanism of control and stringent network of information technology tools and techniques, globally we are facing regular breach of compliance, fraud, unfair trade practices, data manipulation and false certification.
For a perfect economy to exist and function, role of vigilance bodies and auditors must be effective .Auditors around the world play crucial role in good governance through fact certification, data authentication and analytical reporting. They are not simply the compliance monitor but key instrumental in the enforcement of law .Their professionalism is the trust of a country and partner of enforcement authorities for transparency and development.
International Auditors Summit (IAS) 2019 will be first of its kind to call upon audit practitioners from across the world to discuss and share about audit practicing and key developments in the respective countries.
IAS 2019 is a 3 days International Conclave, where 15 broad subjects related to auditing environment will be covered in the various technical sessions. For more details Visit IAS 2019

Wednesday, October 18, 2017

Deepotsav in Ayodhya : Rejoicing the whole Ramayana Circuit


UP CM Yogi Adityanath has stolen the heart of Indians and Indian Community across the globe for returning us our pride and glory and a chance to visualize and recall the Ayodhya , Lord Rama and the grandeur of RamRajya .
Lord Ram returning to Ayodhya
A small step to celebrate Deepotsav in Ayodhya today in the very style and fashion ( to some extent ) of actual arrival of Lord Rama in Ayodhya after Lanka victory is going to be a heart touching moment for the community across the globe and country obviously.
Ofcourse this step of Yogi Adityanath will not only cover up the Hon. Supreme Court's order of banning Crackers; as the real crackers of happiness and joy will now burst out in the heart of the community deprived of to rejoice their own pride, but also opens up a hope of the revival of the whole Ramayana Circuit to reestablish the faith with tourism as also decided by Ministry of Culture and Tourism and Sate Government

The country which has been under attack and influence of invaders for thousands of year and post effect of crushing and covering up of the ethos and culture of this country by the post independence governments (centre and state) for the vote bank and appeasement of other communities, did an unrepairable job; which the present government is trying to repair and bring back.

Uttar Pradesh, which is a state of God’s birth place and His Glorious stories as played, practiced and performed, was forced to be recognized only by the colonial and Mughal monuments built on the demolition and destruction of the holy places of Hindus to let the community feel guilt of their own culture and belief system and cover up the great tradition and religion of Indians.

Previous governments projected Tajmahal in every official advertisement as the only historical monument which was actually built by the Sarjahan as again on the demolished Hindu worship place as well exposed with structural proofs in the book of Sh. P. N. Oak: Truth of Tajmahal, who perfectly elaborated the illogical and dubious meaning to the name as such “Taj” and “Mahal” and its fake history of symbol of love as befooled by paid historians. 

Further, To name a few, Ajodhya, Mathura, Kashi - only three in UP if we take as an example; anybody can visit and observe the cruelty of mind of the Mughal invaders who demolished and destructed the Hindu worshiping places to built a mosque with temple materials itself .They not only ruled and looted this country but also tried their best to eliminate the Indian culture and religion i.e. Hindu.

Successive governments after independence did the same cruelty to demean and push back the Hindu religion by propagating through all means the invaders monumental remnant and domicile places as main identity of the culture and state.

Among the various development and growth centric decisions of both the governments, these steps of returning lost pride and identity to this country and reviving the God’s places as a respect to the millions of the worshipers across the world, will not only bring prosperity and growth through local and global tourism but also guide the coming generation to learn and practice of what is Ramrajya and how enriched the Hindu culture and rituals are.

Reminiscing the return of Lord Ram to Ayodhya, the event today will seek to create the celebratory atmosphere witnessed in Ayodhya on Lord Rama's return along with wife Sita and brother Lakshman, after victory over Ravana, as narrated in the epic Ramayana.

Today Ayodhya is rejoicing as explained by Goswami Tulsidas Ji :

इहाँ भानुकुल कमल दिवाकर कपिन्ह देखावत नगर मनोहर
सुनु कपीस अंगद लंकेसा पावन पुरी रुचिर यह देसा ॥१॥

जद्यपि सब बैकुंठ बखाना बेद पुरान बिदित जगु जाना
अवधपुरी सम प्रिय नहिं सोऊ यह प्रसंग जानइ कोउ कोऊ ॥२॥

जन्मभूमि मम पुरी सुहावनि उत्तर दिसि बह सरजू पावनि
जा मज्जन ते बिनहिं प्रयासा मम समीप नर पावहिं बासा ॥३॥

अति प्रिय मोहि इहाँ के बासी मम धामदा पुरी सुख रासी
हरषे सब कपि सुनि प्रभु बानी धन्य अवध जो राम बखानी ॥४॥

(दोहा)
आवत देखि लोग सब कृपासिंधु भगवान
नगर निकट प्रभु प्रेरेउ उतरेउ भूमि बिमान ()   

Saturday, July 23, 2016

दलित की दलील के साथ दंगा और दहशत

 दलितों की स्वघोषित देवी -बहिन जी 
डॉ अम्बेडकर ने भी दलित होने का ऐसा दम्भ नहीं भरा होगा जितना उनका चित्र लगाकर एवं उनके नाम पर  दलित पैरोकारी करने वाले, जबरन दलित बने हुए ,राजनीती की दुकानदारी करने वाले लोग करते रहते है .

घोर तुष्टिकरण की नीति से हिन्दुस्थान के मुस्लिमों को दोयम दर्ज़े का तथा अलग प्रजाति का वर्ग बनाने के बाद,दलित शब्द के माध्यम से हिन्दुओं के बीच इस गहरी खायी को दिन बा दिन और गहरा करने का प्रयास अनवरत जारी है .

इन् राजनीतिक दुकानदारों को यह बात भलीभांति पता है की उनका अस्तित्व ,नितांत इस घोर अलगाववादी  प्रकृति पर ही निर्भर है .जहाँ खेतो में मज़दूरी करके रोज़ी रोटी कमाने वाला स्वावलम्बी ,या सरकारी आरक्षण का लाभ अथवा स्वयं के पौरुष से लाभ या प्रतिष्ठा के पद पर आसीन तथाकथित "दलित" इन दुकानदारों के बुने हुए जाल में फंस के पार्टी का झंडा उठा के मर मिटने को आतुर  हो जाता है ,जिनमे से कुछ एक के मरने पे श्रधांजलि का दौर चल पड़ता है यदि उसकी मृत्यु समय विशेष पर हुई हो यानि चुनाव आने वाला हो या सत्ता में बैठी पार्टी के विरुद्ध कुछ तथ्यपरक न मिल रहा हो ;उसकी जाती विशेष और उस विशेष जाती के सधे वोट बैंक के चलते .

और स्वाभाविक तौर पर  राजनैतिक लाभ उस पार्टी के बैठे मुखिया और चुने हुए चमचों को मिलता है जो उन्ही अनायास मरे हुए लोगों से खुद को देवी और देवता मनवाते /बुलवाते है और उनके रहनुमा घोषित करवाते है .

वस्तुतः , न तो देश में दलित जैसे शब्द की व्याख्या उपलब्ध है और न ही संवैधानिक विवेचन .इतना ही नहीं दलित -दलित करके उन्हें पददलित और अत्यंत नीच कर देने का कुत्सित प्रयास करने वाले आज राजाओं की सी जिंदगी बिता रहे है और उनके राजनीतिक हथियार वो बेचारे तथाकथित दलित लोग आज भी वैसे ही गुजर बसर कर रहे है .

हाल ही में वर्ष २०१५ की दलित रूपांतरित /प्रायोजित घटनाएं  और अभी बसपा की  मायावती का प्रकरण हमारे समक्ष है . खुद को बहिन जी कहलाने वाली कहती है की वो अपने दलित बनाए हुए लोगों की देवी स्वरुप है और  स्वघोषित देवी के विरूद्ध टिपण्णी  करने वाला उनके भक्तों से स्वाभाविक हिंसक प्रताड़ना का भागी है .

इन बहिन जी के जैसे दलित या जाती केंद्रित राजनीती करने वालों के अपने स्वघोषित भक्त हैं जो देवी /देवता उपासना में बलिदानी बनने को आतुर रहते है .

ये ऐसे देवी /देवता है जो हज़ारों करोड़ों  रुपये के अघोषित संपत्ति पर आराम करते हुए खुलेआम पार्टी का टिकट  करोडो में लाटरी की तरह  संभावित /लालायित उम्मीदवार को बेचते है .जिनके ऊपर अनेक जाँच के आदेश /कार्यवाही जारी है .जिनकी गुंडागर्दी उनके तथाकथित "दलित" होने की वजह से और उनके दलित भक्तों के नाराज  हो जाने की वजह से और राजनीतिक विवशता के चलते  लंबित और निष्क्रिय पड़ी है .

विडम्बना यही है की इन्होंने खुद को उन् घोषित " दलितों" का ऐसा पूज्यनीय नेता बनवा लिया है की यदि अन्य दल, राष्ट्रीय हित में इनके कृत्यों का बहिष्कार ,प्रतिकार करें तो छड़ भर में वह "दलित दमन /शोषण " हो जायेगा और देशव्यापी भाड़े के बुद्धजीवियों का विलाप प्रारम्भ हो जाता है और संवैधानिक दलीलें भी प्रस्तुत होने लग जाती है जिसमे शिक्षाविद ,न्यायपालिका और सामाजिक क्षेत्र से जुड़े सभी प्रतिष्ठित निहित स्वार्थ से  दलित राजनीती में तल्लीनता से लग जाते है .

यह विषय उन राज्यों के लोगों को तय करना है जहाँ ऐसे  स्वघोषित देवी -देवता ,अंधभक्तों से राजा बने हुए ऐश  कर रहे है . संसद से लेकर विधानसभा में अपने चयनित चमचों के माध्यम से राजनीतिक सांठ-गांठ और निर्धारित लेनदेन करके दलित और दलित विषय को  जीवंत बनाए रखना चाहते है ताकि ये उनके द्वारा घोषित हुए "दलित " सदैव दलित बने रहें ,इन्हें देवी स्वरुप मानते रहे और इनकी अय्याशी, राजनति के माध्यम से राजनीतिक गलियारों में अपनी चमक धमक बनाए रखे .

फिर चाहे किसी को जबरन "दलित कुर्बान" करना  पड़े , दंगा करवाना पड़े या राजनीतिक दहशत फैलानी पड़े की उनके ऊपर ,उनके किये गए कुकृत्यों का विरोध या कार्यवाही समूचे दलित समाज का शोषण और अपमान है क्योंकि अंततः वो "दलितों " की देवी जो है !

Tuesday, March 22, 2016

Happy HOLI from India Think.Org

 

                               

With Regards ,




Saurabh Pandey 

Founder - SPS ACUITY LLP                            Founder & Convener - India-Think.Org    

www.acuitymulti.com
www.indiathink.org 
       

Tuesday, February 16, 2016

जे एन यू (JNU)- भारत में बैठे आतंकी

आओ "आज़ादी आज़ादी तक जंग" का एलान करने वाले इन्  राष्ट्रदोहियों की  "घर - घर से अफज़ल निकलने " जैसी  चुनौती को स्वीकार करते हुए  "अफज़ल " के पास भेंजे . ....इससे पहले की ये "भारत को टुकड़े टुकड़े" .."बर्बादी तक जंग " ..अफज़ल अफज़ल और कश्मीर के मिलने तक जंग की बात करें ...."अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता" के नाम पर घोर देशद्रोह के पैरोकारों को याद दिला  दें ..राजनीतिक लाभ के लिए मुद्दों पर वैचारिक मतभेद हो सकते है परन्तु देश की संप्रभुता एवं अखंडता को खंडित करने का ऐसा दुस्साहस ?????
कि  राहुल ग़ांधी और उसका गन्दा ख़ानदान जो भारत की आज़ादी से ही भारत की बर्बादी में संलिप्त है ,खुलेआम देशद्रोहियों का समर्थन  करे और हम उसे बीजेपी Vs कांग्रेस / लेफ्ट /अन्य विपक्ष  का नाम देकर अपने राष्ट्रीयता एवं नैतिक मूल्यों को भूल जाएँ ??
क्या सच में "देश कि बर्बादी होने तक" या "कश्मीर कि आज़ादी " तक का हम इंतज़ार कर रहे है ????....
सरकार की संवैधानिक कार्यवाही को JNU में अतिक्रमण का नाम देकर उसे सरकार की साजिश का नाम देने वाले ये कहना चाहते है की चंद दिनों पहले जो आवाजें लगायी जा रही थी "देश को बर्बाद " करने की वो देशप्रेम था ???
आखिर दुनिया के किस देश में इस हद तक वैचारिक स्वतंत्रता प्रदत्त है की उसी देश में रहते ,खाते, पीते हुए उसे ही बर्बाद करने का खुले-आम घोष किया जाये   ??
इस देश के ही संसाधनो से जीने वाले , हमारे सिपाहियों से सुरक्षा  पाने वाले ,हमसे सहयोग और सहानुभूति पाने वाले , देश के पैसों से फ्री पढ़ने वाले ,इसी देश की खिलाफ आतंकियों से सांठ-गांठ करके हमें ही बर्बाद करने का सपना संजोये और हम शांत बैठे क्यों  की इस देश की लोकतान्त्रिक  व्यवस्था में किसी को भी अपना मत रखने का अधिकार है  ???
ऐसा मत जो इस देश को और हमें ही "बर्बाद" करने का सपना पाले  हुए है ??
आतंकियों के पैरोकार "देशद्रोही" की परिभाषा समझा रहे है ,वो बता रहे है उन्हें ऐसा करने पे देशद्रोही न बोले क्युकी वह तो उनका नैतिक अधिकार है और उनके इस नैतिक अधिकार का हनन "भगवाकरण" है नाकि देशद्रोह .
उनका कहना है की ,इस हिन्दू बाहुल्य देश में जिसने "वशुधैव कुटुंबकम" की परंपरा के तहत (जातिगत आधार पे देश के दो बंटवारे हो जाने के बावजूद) सभी को सामान अधिकार एवं सम्मान दिया है ,हिन्दू और हिंदुत्व की बात सांप्रदायिक है परन्तु आतंक एवं आतंकवादियों का खुलेआम समर्थन देशप्रेम एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता ??? वाह !! क्या देश है ....
क्या राजनीती का स्तर इस हद तक गिर चुका है की राष्ट्रीयता जातिगत वोट और देशद्रोह के अधीन हो गयी है ?? ...मुस्लिम वोट की लालसा इस कदर सर पे सवार है की "देशद्रोह" को ओछे तथ्यों से बचाया जा रहा है ...
मुस्लिम वोट पाने का होड़ लगा है और अपने पछ में करने के लिए :पहले मै -पहले मै " का खेल खुलेआम जारी है ..आतंकवादियों को सम्मानजनक शब्दों (अफजल साब , ओसामा  जी...) से उद्बोधित किया जा रहा ..आतंकवादियों को शहीद बताया जा रहा है ... देश को बेचा जा रहा है ...दुश्मनो के हाथ नीलाम किया जा रहा है ??? और राष्ट्रहित  में हो रहे संवैधानिक प्रक्रिया को "सरकारी आतंक "एवं दुर्भावना से ग्रसित बताया जा रहा है ???...देश के हालत पे आतंकी ट्वीट करते है .. अपने मंसूबों को सफल होते देख प्रोत्साहित एवं समर्थन  ज्ञापित करते है ...और गृहमंत्री के देशहित बयान का उपहास उड़ाते है .... ???
 इस नीच मानशिकता ने ही देश को बर्बाद किया ...और स्वयं को असहाय ,सत्ताविहीन पाकर नीचता की पराकाष्ठा पार करने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है ..और ये नया प्रयास तथाकथित बुद्धिजीवियों एवं आतंकी  के रूप में फैले विद्यार्थियों के माध्यम से कराया जा रहा है .... हमारे आस पास बैठे ये दुश्मन सीमापार के घुसपैठी या आतंकवादी से कही ज्यादा खतरनाक है जो उन्ही के लिए काम करते है हमारे आपके बीच अपनों जैसा बनके ....खुद को प्रोफेसर ,लेखक ,अध्यापक ,विद्यार्थी ,शोधार्थी या समाजसेवी बता के ...
JNU   के माध्यम से खुलके सामने आये इन् देशद्रोहियों को सजा देने का समय आ चुका है .वर्षों से इन सबने मिलके व्यवस्था को खोखला  किया है  ..आओ इनके मंसूबों को हम खोखला करें .... बर्बाद करें इनके "भारत की बर्बाद " करने के आतंकी सपने को ....
इस  प्रकरण ने देशव्यापी आतंकी गठजोड़ को उद्घाटित किया है . पूरा देश आश्चर्य में है की इतना पर्दाफास हो जाने के बावजूद समाचार चैनल में बैठे पाखंडी बुद्धिजीवी किस प्रकार से वकालत कर रहे है दोषियों की ??? समर्थन में मानव श्रंखला और शांति मार्च निकाले जा रहे है ???
किस प्रकार से वर्षों से ये सांप पाले पोसे  गए है जो अब देश भर के शिक्षण संस्थानों में फ़ैल के विष फैला रहे है .
कही ये तथाकथित पढ़े लिखे देशद्रोही हरामखोर आपके अगल बगल तो नहीं है ....???? 
 भारत सरकार को अब न केवल इन सांपों को JNU  से साफ करना है अपितु पूरे देश में सघन अभियान चला के चुन चुन के बहार निकालना  होगा . देश बाहर के आतंकी से निपट लेगा परन्तु घर में बैठे इन सपोलों का सफाया तो हो पाये .

Friday, February 12, 2016

Ideological Terrorism (वैचारिक आतंकवाद) :बिहार की बेटी "इशरत जहाँ" से शहीद "अफज़ल गुरु " तक

"हम लड़ के लेंगे ..! आज़ादी" ...... ,"तुम एक अफज़ल मरोगे ,घर घर से अफज़ल निकलेगा " ..."पाकिस्तान  ज़िंदाबाद .."  these throaty roaring slogans were part of JNU’s so called cultural program organized to commemorate and protest  “Afzal Guru’s Judicial Death” on 9th of Feb.

Media ,except Zee News was silent (as always this gang do if it is the case of pseudo secularists and more clearly if it is against the India by such terror supporting Indians who are actually agent of terrorists and works here as sleeper cells) on this gross national shame which was busy just few days back applauding terrorist Afzal Guru’s son who scored very good marks in the school like no student in India did before this and like he was the son of his great martyr father sacrificed for nation ?

Same people were staging to mourn Yakoob Menon’s death in Hyderabad University through Rohit Vemula who finally took suicide aftermath of his expulsion from university following aspersions of his anti national involvement and misleading innocent student to sedition .

After years of trail ,hearing ,court decision ,repeated mercy petition ,concerted campaign from so called secularists against the decision and verdict and finally accent of President of India on the death penalty of both of the two Muslim specially (who are role model for few Muslims today) like others for their lawful evident hand in terrorism; they were hanged till death .

I was listening the versions of organizer of program and JNUSU president on a news debate yesterday lauding and certifying self for what they did and claim it well constitutional as their freedom of expression .

Ridiculously ,he was also of the view that they have full right to oppose and voice this way as no court , no judge ,no political system and party can hold them guilty to celebrate the death anniversary of  terrorists and in-fact the invitation poster well publicized name of terrorists with pics for whom they sat to mourn and challenge the integrity of India with slogans – "हम लड़ के लेंगे ..! आज़ादी"….. 
  
As always only ABVP was there to protest against this anti nationalism and seditionist act being voiced in the university campus openly by AISA ,SFI as they are doing across the Indian universities It seems for protecting the nationalism in the country and  in universities only ABVP has role and all other student unions are for the support and nurturing of terrorism in country ??

The great shame of nation CM Kejriwal rushed to Hyderabad for Vemula but kept mum with his newly born student wing in Delhi supporting silently the act with NSUI??? However his intent in politics and purpose is now clear to all as during last 3 years his political stands and move is enough evident to prove of whose hand he is a playboy and why he is in politics.

After analyzing the incidence one after another (from cry of intolerance, Award Wapasi ,Rohit Vemula...) you can sense the frustration of those anti nationals and terror supporting outfits who ruled India and states (still in few states but oust from main politics for which again tying with congress to fight west Bengal ) with congress and others  for years and destroyed it to the will they wanted to and as the enemy countries desired so to control India and its whole political system .

Spreading venom through education system and student union is not a new but is continue by communists and leftist since years by writing framed and malafide  history of India and Indian heros and connivance with traitors and terrorists time to time. 
They then conspired our freedom fighters and still alive to swallow the bright generation of growing India .Their losing ground is disturbing them all and to regain the power they are so much disparate that they have adopted agenda of terrorist and separatist to appease them so as to get fund and support of Muslim community as they still believe, Muslims only vote for anti nation and pro muslim voice in a secular India ?
And this is why LeT suiside bomber Ishrat Jahan becomes Nitish Kumar’s “बिहार की बेटी ” and death of Afzal ,Bhatt ,Menon celeberated as शहीद  with support of these political parties .

Thanks to home minister who vowed and reassured today to take stern action against these traitors and terror supporting sleeper cells .



Wednesday, February 3, 2016

छात्र को दलित बनाने के बहाने .....

Saurabh Pandey
गज़ब का चलन है भारत में .जहाँ एक बीमार मुख्य्मंत्री जिसे सिवाय अपने  प्रदेश के संपूर्ण  देश दुनिया के विषय में  रूचि रहती है; यह प्रमाणित करने के प्रयाश में की वह एक केंद्र शाषित प्रदेश का नहीं वरन देश का मुख्यमंत्री है और जहाँ मुद्दो के अभाव में कुछ भी अनर्गल एक ज्वलंत विषय बन जाता है जिस पर २ -३ दिनों तक टीवी चर्चा भी जोर शोर से कर ली जाती है .
ऐसा देश जहां की मीडिया वास्तविक विषयों से दूर भागने के लिए समाचार का अचार बनती रहती है तथा अप्रासंगिक एवं तथ्यहीन विषय  को  पंथ निरपेछता की वकालत के नाम पर विवादास्पत शीर्षक से परोसती रहती है .
जहाँ पंथ निरपेछता की विधिवत खुलेआम ढेकेदारी ली जाती है और विषयहीन को संयुक्त प्रयास  से महत्वपूर्ण विषय बनाने की कोशिश की जाती है ताकि सरकार को बेकार और देश का व्यापर किया जा सके जैसा की सदियों से देश के साथ होता आया है .
इस संयुक्त प्रयास में विभिन्न मीडिया घराने ,पदच्युत राजनैतिक दल एवं तिरस्कृत नेता ,समाज सेवा के नाम पर NGO व्यापारी ,भाड़े के बुद्धिजीवी ,कलाकार एवं साहित्यकारों की प्रतय्छ एवं अप्रत्यछ फ़ौज संलग्न है जो देश को सदियों से अपने अपने स्तर से बेचते आये हैं और बेच  पाने में जरा भी असछम या असहाय दिखने पर  नए तेवर और रंग रूप के साथ उभरने एवं अस्तित्व में आने का असफल प्रयास करते रहते हैं .
अभी असहिषुणता के बनावटी बवंडर का भंडाफोड़ घर घर पहुँच ही रहा था की भाड़े के बुद्धिजीवी गैंग  ने  एक संभ्रांत  परिवार के पढ़े लिखे बिगड़ैल  छात्र को ;जिसे हैदराबाद विश्वविद्यालय से स्कॉलरशिप भी मिलती थी ,अपनी देश द्रोही महत्वाकांच्छा का शिकार बना दिया ठीक वैसे ही जैसे केजरीवाल गैंग ने गत वर्ष दौसा -राजस्थान के  गजेन्द्र सिंह को जंतर मंतर पर पेड़ पर लटकवा के किया था .

इस छद्म  बुद्धिजीवी गैंग ने बेचारे  रोहित वरमाल से पहले विश्वविद्यालय प्रांगण में राष्ट्र द्रोही प्रदर्शन करवाये ,उससे विघटनकारी एवं आतंकवादियों की सजा के विरुद्ध प्रदर्शन में मुखौटा बनाया .विश्वविद्यालय प्रशासन को उस पर नैतिक कार्यवाही करने को विवश किया ,उसे बेरोजगार किया और आत्महत्या पर विवश किया जैसा की उसने अपने अंतिम पत्र में जिक्र भी किया है .
एक छात्र को जबरन दलित घोषित करने में छद्म  बुद्धिजीवी गैंग ने विलम्ब नहीं करना चाहा मानो ऐसा की देश में सामान्य वर्ग परित्यक्त एवं हीन प्रजाति का हो ??
छात्र की भी जाती एवं प्रजाति बनाने में इनके निहितार्थ की पराकष्ठा तो देखिये की रातों रात कफ़ ग्रसित दिल्ली का सी. एम. केजरीवाल ,अपनी बुद्धिमानी का दुनिया में लोहा मनवा चुके राहुल बाबा समेत अनेक पाखंडी जो कुछ दिनों से रसातल में दबे थे निकल आये और धरना प्रदर्शन के धंधे में पुनः सक्रीय हो गए .
फिर क्या ट्विटर क्या न्यूज़ डिबेट, हर जगह दलित छात्र पर अत्याचार का समाचार ऐसा मिला मानो मोदी सरकार को इस बार तो घेर ही लेंगे .
अथक परिश्रम से निरर्थक उद्देश्य में लगे ये पाखंडी संघ मुख्यालय भी पहुंचे और जोर शोर से "नीम का पत्ता कड़वा है -नरेंद्र मोदी भड़वा है" के नारे लगते मिले (वीडियो सोशल नेटवक पर वायरल है ).
इन् भद्दे नारों के बीच कुछ शिखंडी भी छात्र रूप में थे जो दिल्ली पुलिस  को प्रेरित कर रहे थे गलियां देकर की हम तथाकथित छात्र , संघ और मोदी का नाहक आरोपी बनाने का कोई मनगढंत अवसर नहीं गवाना चाहते .
और जब लम्बे बालों वाले शिखंडी बने छात्र अपने अमृत वचन के फलस्वरूप  पुलिसिया कार्यवाही का शिकार हुए जोकि लाज़मी भी था ,तो मीडिया गैंग ने उसे महिला बनाम पुरुष करार देने में देरी नहीं की यह सोचे बिना की उस लम्बे बल वाले शिखंडी पुरुष  का असली रूप क्या है .
अच्छा हुआ घटना स्थल पर उपस्थित जनों ने  बाकायदा सारा नंगनाच  रिकॉर्ड कर रखा है जो सोशल मीडिया पर भी उपलब्ध है .
विषय यह नहीं की छात्र दलित ता या सवर्ण ,छात्र था या उपद्रवी ,उसका निष्कासन सुनियोजित था या नैतिक कार्यवाही ,उसकी आत्महत्या विवस्ता थी या प्रायोजित रहस्य ?
विषय की भयावहता यह की यह बेशर्म राजनीती आखिर कब तक ? मौत पर राजनीती कब तक ? कब तक मीडिया बिकेगी ? मीडिया के माध्यम से रोटी सेकने वाले कब तक उल्लू बनाएंगे ? और हम कब तक बेकुफों की तरह इस छद्म सेकुलरिज्म के शिकार होते रहेंगे जिसने देश के बहुसंख्यक समाज को तिरष्कृत  करके रखा  हुआ है तथा अल्पसंख्यक को आतंकी का पैरोकार  ?

सिर्फ कल यानि २ फरवरी की घटना को लें तो ,देश को बदनाम और गलियां देने वाले विदेशी सरजमीं पर आमंत्रित किये जाते है और एक राष्ट्रवादी कलाकार अपने मुखर व्यक्तित्य के चलते  वीसा मिलने से ही वंचित रह जाता है ? जहाँ आतंकियों के नाम पे विश्वविद्यालय  में प्रदर्शन करने वाला रातों रात शहीद में शुमार हो जाता है तो ठीक उसी समय दर्जनों छात्रों का दुर्घटना में मर जाना अप्रासंगिक हो जाता है ??
जहाँ चनाओ का समय आते ही एक विशेष तबके के मन में असहिषुणता और असुरछा बढ़ जाती है परन्तु चुनाव खत्म होते ही सब पहले जैसा सामान्य हो जाता है ??
जहाँ मुस्लिमो के बस इतना कह देने पर की वो उपेच्छित है (सच्चाई विश्व  विदित है) ,भाड़े के बुद्दिजीवियों का मातम  शुरू हो जाता है और मुस्लिमों के द्वारा सुनियोजित दंगा एवं खुलेआम राष्ट्रद्रोह करने पर भी  सब शांत रह जाते है ? ?
इस देश के बहुसंख्यक को सेकुलरिज्म और झूठे विकास  के नाम पर प्रतिदिन आघात पहुचने वाले ये देशद्रोही एक चयनित सरकार के विश्व्व्याप्त महिमा से तिलमिलाए पड़े है .बेचैन है उन् आकाओं के एहसान तले जिन्होंने इन गद्दारों को सदियों  से पला पोशा है .देश में ही रह कर देश के विरुद्धः तैयार करने में इनके प्रत्येक  निजी आवश्यकताओं का  हर संभव सहयोग किया है .
इन्हे याद अवश्य दिला देना चाहिए ! देश ने एक योगी को मुखिया चुना है नाकि भोगी एवं रोगी को . वह योगी अपनी राष्ट्र भक्ति की योग साधना में प्रतिपल व्यस्त है  । ऐसी योग साधना में आने वाले प्रत्येक राछस  या तो सुमार्ग पर स्वतः आ जायेंगे या समय के साथ विलुप्त हो जायेंगे । इतिहास तो ऐसा ही बतलाता है ।हो सकता है इनके पास कोई और इतिहास हो तभी इनके सुधरने की उम्मीद इन्हे खुद भी नहीं ।
परन्तु कुछ भी हो छात्र को दलित बनाने के बहाने मीडिया को २-३ दिन का मसाला जरूर मिल गया ।

Friday, October 23, 2015

ACUITY Event II "Government & Governance"@ Constitution Club of India -CCI ,New Delhi ,12th Dec. 2015

                                               Login For registration ! Entry Free !!
                              http://www.acuitymulti.com/Event.aspx  ( Pl click)
Government & Governance
( A debate on Role & Responsibility of Government and Citizen )
Saturday ,12th Dec. 2015 [ 4 PM To 6 PM ] 
​Mavlankar Hall ,Constitution Club of India -CCI, Rafi Marg
(Near Patel Chowk Metro) ,New Delhi-01​, - Followed by High Tea ​

Presided By
H.E. Sh. V. Shanmugnathan ​ ​(Honorable Governor –Meghalaya) 
H.E. Sh. K. N. Tripathi (Honorable Governor –West Bengal) 
Special Guest Invitee
H. E. Sh O P Kohli (Honorable Governor –Gujarat)
Guest of Honor 
Sh. (Dr.) Raman Singh (Honorable CM –Chhattisgarh )
​Sh. Ravi Shankar Prasad (Honorable Union Minister -IT & Communication)​
Smt. Nirmala Sitaraman (Honorable ​Union ​Minister– Commerce & Industry)​
Sh. Ashish Kundra -IAS (Honorable Administrator –Daman, Diu & Dadar Nagar Havelly)
Sh. Ram Madhav Party Gen. Secretary & Director -India Foundation
Sh. Tarun Vijay (MP Rajya Sabha & Renowned Columnist )
Sh. Udit Raj Ex. IRS (MP Loksabha & Chairman SC/ST Confederation) 
Sh. Subhash Chandra – Chairman -Essel Group and ZEE TV Network
Sh. (Dr.) Anirban Ganguly – Director –SPMRF
Sh. Laxmikant Bajpayee – MLA & Ex. State Minister (President BJP UP)
Sh. Prakash Sharma JI – ( VP -BJP -UP)
Sh.G K Reddy – (MLA Abmerpet ,Hyderabad & Party President -Telangana)
Organiser 
Mr. Saurabh Pandey
Mr. Ayilur Ramnath
Ms. Bharti Tiwari
Mr. Saurabh Dwivedi
Management
Mr. Anil Garg (Multi Associates )
Mr. Satyendra Srivastava
Mr. O P Mishra
Mr. Kamlesh Pandey/Mr. Rahul Shigh
Media Incharge 
Mr. Neeraj Donoria
Mr. Abhishek Mishra
Sponsoring Committee
Mr. Praveen Narang (Pragati Pathik)
Mr. Sanjeev Nanda (Oasis Group)
Dr. N K Sharma (Reiki Healing Foundation)
Dr. Shrish Pandey (Nairogyam)
Dr. K.K. Garg (DGL & Siddharth)
Mr. Vikas Aggarwal (VIVA Group)

Friday, August 28, 2015

#GiveItUp But Why ?

Sleepless night hunger strike,
                         Couldn’t afford inflation and hike !!

Ambitions pinched by year’s poverty,
                              Shattered vision & family fight !!

Dark future although vigor inside,
                             Wide scope and vision-less sight !!

Snatched everything for political height,
                                  Quota spoiled Mighty & Bright !!
 
GENERAL paying for being UPPER, Forced poverty & quality filter
                         Crowned Dustbins our Honorable to feel guilty of our TITLE ever??

Who cares those talents, their brilliancy intellect?
                                                          Ate all budding power like poisonous sect !!

The rich and richer still begging Reservation,
                             With inefficiency & impotency betting reputation??

Who will end this caste politics, Who will cease this Quota culture?
                                     Save talent and brilliancy for dignity positions from goons & vulture??

PM says for #GiveitUp and urges to be generous for underprivileged
                 Will he ensure for QUOTA #GiveUp on humanitarian ground from position hedged?

Whose position is bliss of Reservation and family enjoys the unwanted treat
                 Never worthy for such treatment, cheat GENERAL with reservation bleat.

Yes!! We are ready for #GiveItUp and for society up-liftment,
                                                  We always did this at own cost still playing with sentiments?

Stop mocking the generation, who want to grow with skills inbuilt,
                        You can’t become a great nation with Reservation, filter and birth guilt.